मसूरी - एक बार जाना तो बनता है

Massourie travel
Credit - Nikhil Srivastava

TRAVEL | मसूरी जाने के लिये आप थोड़ी लम्बी रेल यात्रा कर पहुंच जायेंगे देहरादून। देहरादून से लगभग 30 किमी दूर स्थित है पहाड़ों की रानी मसूरी। भारत में किसी स्वर्ग से कम नहीं है मसूरी जहाँ पहुंच कर आप यहां की वादियों में कहीं खो से जायेंगे। देहरादून से मसूरी जाते वक्त आपको ऐसे कई मनमोहक नज़ारे देखने को मिल जायेंगे जो आपका मन मोह लेंगे।

मसूरी में होटलों के कमी नहीं है हर जेब के लिये यहां होटल मिल जायेगा। होटल में कमरा लेके आप अपना सामान रख, आराम कर उस जगह निकल सकते हैं जिसके लिये मसूरी जाना जाता है।

कैंपटी फॉल-
मसूरी से कुछ दूरी पर स्थित है कैंपटी फॉल। पहाड़ों से गिरते झरझर पानी की खूबसूरती ही दिलों को छू जाती है और अगर उसी झरने के नीचे आपको नहाने और दोस्तों या परिवार के साथ मज़े करने को मिल जाये तो आप क्या कहेंगे? ऐसा ही आनंद हमें देता है कैपटी फॉल।

कैंपटी फॉल का आनन्द लेके आप मसूरी के स्वर्ग की ओर जा सकते जिसको धनोल्टी का नाम से
भी जाना जाता है। धनोल्टी जाते वक्त आपको पहाड़ों का सुंदरता देखने को मिलती है। सड़कों पर उड़ते बादल, मीठी सी ठंड जो आपके चेहरे पर लगते ही सारी थकान मिटा देती है। धनोल्टी पहुचने के बाद आप एक ऐसे पार्क में जा सकतें हैं जहाँ कुछ ना होके भी बहुत कुछ है।

इको पार्क – 
धनोल्टी में स्थित इको पार्क के अंदर जाने के लिये आपको कुछ पैसे देकर टिकट खरीदना पड़ेगा।
यहाँ आपको एक से बढ़कर एक फोटो खिचाने के लिये लोकेशन मिल जाती है।

पार्क में झूले, कॉटेज, व चोटी पर खड़े होकर पहाड़ो की खूबसूरती का मज़ा मुहईया करता है ये इको पार्क।
उसके बाद आप भट्टा फॉल, झारी फॉल, मसूरी लेक के साथ साथ और भी मनमोहक जगाहों के आनंद ले सकते हैं।

हां, रात के वक्त गांधी चौक स्थित मॉल रोड घूमना ना भूलियेगा। मसूरी की ऐतिहासिक लाईब्रेरी भी यही पर है।

मसूरी का मज़ा ऐसा है जो कभी खत्म ही नहीं होता। आपका मसूरी छोड़ घर आने का मन ही नहीं करेगा। पर घर तो आना ही है तो आप देहरादून वापस आके रेल के माध्यम से घर वापसी कर सकते हैं।

Comments